Bimal Raturi

"भीड़ में अकेला खड़ा मै ताकता सब को..."

53 Posts

127 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 8725 postid : 53

भूमिका...आजकल के भारत की

  • SocialTwist Tell-a-Friend

assam_1154058g

असम जल रहा है,भारत ६ मेडल ओलम्पिक में जीत चुका है,आधा भारत सुखा और आधा बाढ़ में डूबा हुआ है,अन्ना राजनितिक पार्टी बना रहे हैं,बाबा रामदेव अपने अनसन के आखिरी दिन कांग्रेस हटाने का नारा दे रहे हैं,आडवानी सिर्फ बयान दे रहे हैं,सोनिया भड़क रही है, तिवारी जी बुढ़ापे में बाप बन चुके हैं,

मस्जिद से कठमुल्लाओं के फतवे जारी हो रहे हैं,हिन्दुओं को कभी जूतों,कभी चड्डियों में भगवानो की फोटो दिखाई जा रही है,तो मुसलमानों को खून से सनी लाशों की तस्वीरें दिखा कर भड़काया जा रहा है, न नतीजा कभी गोधरा का निकलेगा,न अयोध्या पर कभी फैसला आयेगा…कश्मीर पे भी जंग जारी रहेगी|
पढाई तो बिक गयी है,तो क्या उम्मीद रखते हैं गुरु शिष्य परंपरा जन्मेगी? संस्कार तो हैं नहीं तो क्या गलत है जो अगर बच्चा अध्यापक के थप्पड़ या गोली भी मार देता है
रोजगार है नहीं,या यूँ कहें रोजगार लायक बन्दे नहीं हैं, ताजा रिपोर्ट तो बता भी रही है की भारत के नये नये इंजीनियरों में ४७% को तो रिपोर्ट्स पढना ही नहीं आता,बचे खुचों को काम ही नहीं आता, जिसे काम आता है उसे यहाँ का सिस्टम काम करने नहीं देता तो वो अमेरिका में जा कर उन के पैसे बढ़ाता है|
शाहरुक के ड्रामे जारी हैं,पर करीना के अब थोडा कम है,आमिर की कोई नई पिक्चर आई नहीं,पूनम राखी की राहों में बढ़ रही है,कपडे तो बेचारी के पास कम हैं ही,एकता कपूर अब सास बहु के बाद फिल्मे बनाने लगी हैं,और जम के सेक्स बेच रही हैं,हाँ कमाल खान का मुझे पता नहीं….
युवराज की वापसी हुई है,हरभजन को क्यूँ लिया किसी को नी पता… हाकी में भारत को दुबारा लकवा मार गया है,कुछ दिनों भारत में शायद ये खेल भी ख़तम हो जाये,हाँ मेरी कॉम सुपर मम्मी जरुर बनी है,सचिन अब भी टीम में हैं, उन के साथ के तो कोच बन के भी रिटायर हो चुके हैं पर उन का जलवा जारी है,पेस,भूपति पहले देश के लिए खेलते थे और अब सानिया के लिए खेलते हैं….
मीडिया आज भी जिस की सरकार होती है उसे ज्यादा दिखता है,लोग आज भी कभी मीडिया को गली तो कभी प्यार बरसाते हैं|
ऑफिसर रैंक वाले कुछ कहते नहीं तबादलों की चिंता उन्हें ज्यादा रहती है,और जब साब कुछ नी कहते तो स्टाफ कहे को कुछ कहेगा,चपड़ासी ने फीश बढ़ा दी है फाइल बढ़ा ने की….हाँ दफ्तरी ने अब ऑफिस में पानी पिलाना छोड़ दिया….वक़्त ही नहीं मिलता
प्रधान ने तक पांच पांच लम्बी गाड़ियाँ खरीद ली हैं,तो विधायक और सांसद के क्या कहने? और अब तो हेमा, रेखा जया और सुषमा भी संसद में आ चुकी है….हाल बदलेंगे पता नहीं,
हाँ चाहे १००-५० रुपे दे कर हम पुलिस वालों को मना ले,पर हम भ्रस्टाचार के खिलाफ अन्ना के साथ  हैं
प्रतिभा ताई रिटायर हो चुकी है,प्रणव दादा ने गद्दी सम्हाली है,और पुराने रास्ट्रपति कलाम साब का मिसन २०२० शायद ही कभी पूरा हो पाए….
बच्चों में तनाव बड़ा कर हम ने आत्महत्या में दुनिया में नंबर १ जगह बना ली है….
बस बाकि तो सब ठीक…
और हाँ आखिर में और इन सब के बीच डॉ. मनमोहन सिंह आज भी खामोश हैं….

मस्जिद से कठमुल्लाओं के फतवे जारी हो रहे हैं,हिन्दुओं को कभी जूतों,कभी चड्डियों में भगवानो की फोटो दिखाई जा रही है,तो मुसलमानों को खून से सनी लाशों की तस्वीरें दिखा कर भड़काया जा रहा है, न नतीजा कभी गोधरा का निकलेगा,न अयोध्या पर कभी फैसला आयेगा…कश्मीर पे भी जंग जारी रहेगी|0 (1)

पढाई तो बिक गयी है,तो क्या उम्मीद रखते हैं गुरु शिष्य परंपरा जन्मेगी? संस्कार तो हैं नहीं तो क्या गलत है जो अगर बच्चा अध्यापक के थप्पड़ या गोली भी मार देता है

रोजगार है नहीं,या यूँ कहें रोजगार लायक बन्दे नहीं हैं, ताजा रिपोर्ट तो बता भी रही है की भारत के नये नये इंजीनियरों में ४७% को तो रिपोर्ट्स पढना ही नहीं आता,बचे खुचों को काम ही नहीं आता, जिसे काम आता है उसे यहाँ का सिस्टम काम करने नहीं देता तो वो अमेरिका में जा कर उन के पैसे बढ़ाता है|

शाहरुक के ड्रामे जारी हैं,पर करीना के अब थोडा कम है,आमिर की कोई नई पिक्चर आई नहीं,पूनम राखी की राहों में बढ़ रही है,कपडे तो बेचारी के पास कम हैं ही,एकता कपूर अब सास बहु के बाद फिल्मे बनाने लगी हैं,और जम के सेक्स बेच रही हैं,हाँ कमाल खान का मुझे पता नहीं….

युवराज की वापसी हुई है,हरभजन को क्यूँ लिया किसी को नी पता… हाकी में भारत को दुबारा लकवा मार गया है,कुछ दिनों भारत में शायद ये खेल भी ख़तम हो जाये,हाँ मेरी कॉम सुपर मम्मी जरुर बनी है,सचिन अब भी टीम में हैं, उन के साथ के तो कोच बन के भी रिटायर हो चुके हैं पर उन का जलवा जारी है,पेस,भूपति पहले देश के लिए खेलते थे और अब सानिया के लिए खेलते हैं….

मीडिया आज भी जिस की सरकार होती है उसे ज्यादा दिखता है,लोग आज भी कभी मीडिया को गली तो कभी प्यार बरसाते हैं|

ऑफिसर रैंक वाले कुछ कहते नहीं तबादलों की चिंता उन्हें ज्यादा रहती है,और जब साब कुछ नी कहते तो स्टाफ कहे को कुछ कहेगा,चपड़ासी ने फीश बढ़ा दी है फाइल बढ़ा ने की….हाँ दफ्तरी ने अब ऑफिस में पानी पिलाना छोड़ दिया….वक़्त ही नहीं मिलता

प्रधान ने तक पांच पांच लम्बी गाड़ियाँ खरीद ली हैं,तो विधायक और सांसद के क्या कहने? और अब तो हेमा, रेखा जया और सुषमा भी संसद में आ चुकी है….हाल बदलेंगे पता नहीं,

हाँ चाहे १००-५० रुपे दे कर हम पुलिस वालों को मना ले,पर हम भ्रस्टाचार के खिलाफ अन्ना के साथ  हैं

प्रतिभा ताई रिटायर हो चुकी है,प्रणव दादा ने गद्दी सम्हाली है,और पुराने रास्ट्रपति कलाम साब का मिसन २०२० शायद ही कभी पूरा हो पाए….

बच्चों में तनाव बड़ा कर हम ने आत्महत्या में दुनिया में नंबर १ जगह बना ली है….

बस बाकि तो सब ठीक…

और हाँ आखिर में और इन सब के बीच डॉ. मनमोहन सिंह आज भी खामोश हैं….

0

ये सिर्फ भूमिका थी आजकल के भारत की…



Tags:           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

7 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Madan Mohan saxena के द्वारा
September 18, 2013

बेह्तरीन अभिव्यक्ति …!!शुभकामनायें.

yogi sarswat के द्वारा
August 16, 2012

आपका लेखन पढने में हमेशा अच्छा लगता है ! ये हिंदुस्तान है साब जहां एक आदमी ४०० रुपये का पीज़ा खा जाता है वहीँ एक माँ १०० रुपये में अपने बच्चे का सौदा कर देती है !

yogi sarswat के द्वारा
August 16, 2012

रतूड़ी साब , आपका लेखन पढने में मज़ा आता है ! यही हिंदुस्तान है जिसमें आदमी 400 रुपये का पीज़ा खा लेता है और एक तरफ एक माँ १०० रुपये में अपने बच्चे का सौदा कर देती है ! यही है हिंदुस्तान !

    Bimal Raturi के द्वारा
    August 16, 2012

    dhanywaad aap ka….

rekhafbd के द्वारा
August 15, 2012

बिमल जी यह तो आगाज़ [भूमिका ] है अंजाम क्या होगा ?,आभार

    Bimal Raturi के द्वारा
    August 15, 2012

    youth ko aage aane chahye….galat politcs ko chod kar ek nyi disha dene ki agar soch hogi to bahut kuch bdal sakta hai…..

yamunapathak के द्वारा
August 15, 2012

विमल जी आप ने यह ब्लॉग बहुत सही लिखा है.पर इन सब में क्या हम व्यक्तिगत रूप से कहीं दोषी नहीं हैं? . हम सब चयनकर्ता हैं मैं चाहती हूँ युवा एक rational सेलेक्टर बनें . साभार


topic of the week



latest from jagran