Bimal Raturi

"भीड़ में अकेला खड़ा मै ताकता सब को..."

53 Posts

127 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 8725 postid : 60

मेरे साफ़ कमरे की कहानी

Posted On: 27 Sep, 2012 Others,लोकल टिकेट में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कम्बल के ऊपर गिरा नेल कटर,

खिड़की की दीवारों पर चिपके खीरे के बीज,

परदे की राड पे लटके टूटे हुक,

खिड़की पर चिपकी दो चिट,

जिस में एक पर किसी के जाने की खबर,

और एक पर किसी के आने का संदेशा,

जमीन पर गिरा स्टेप्लर,

दिवार पर टेढ़ी तंगी तस्बीर,

आईने पे चढ़ी धूल की परत,

अधखुली किताबों की अलमारी,

फर्श पर पड़े स्याही के गहरे निशान,

किताबों के ढेर पर रखे चाय के पुराने कपों की मुस्कान,

दूसरे बिस्तर में पड़े मोबाईल चार्जरों का जाल,

टेबल में पड़ी लैपटाप,पेन और कई डाईरियां,

सामने दीवाल में रखी सरस्वती की मूर्ति,

चौतरफा लटकते मकड़ी के आशियाने,

ढूंढती हैं पवन कमरे में आने के बहाने,

आलमारी के ऊपर रखी अधखुली इत्र की शीशी,

दीवाल में लगी पुरानी फोटो याद दिलाती है किसी की,

बिस्तर में रखे धुले कुर्ते की नीची लुढ़की बाजू

फर्श पर लुढ़की इंडिया टुडे के आवरण में छपा कानून का तराजू,

कलमदान में वर्षों से पड़े कई बंद पेन,

इन सब के बीच मेरा सोचता अस्थिर चंचल मन,

ये है मेरे साफ़ कमरे की कहानी,

सिर्फ और सिर्फ मेरी जुबानी ||



Tags:             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

5 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

yogi sarswat के द्वारा
October 1, 2012

किताबों के ढेर पर रखे चाय के पुराने कपों की मुस्कान, दूसरे बिस्तर में पड़े मोबाईल चार्जरों का जाल, टेबल में पड़ी लैपटाप,पेन और कई डाईरियां, सामने दीवाल में रखी सरस्वती की मूर्ति, चौतरफा लटकते मकड़ी के आशियाने, ढूंढती हैं पवन कमरे में आने के बहाने, आलमारी के ऊपर रखी अधखुली इत्र की शीशी, दीवाल में लगी पुरानी फोटो याद दिलाती है किसी की, बिस्तर में रखे धुले कुर्ते की नीची लुढ़की बाजू फर्श पर लुढ़की इंडिया टुडे के आवरण में छपा कानून का तराजू, कलमदान में वर्षों से पड़े कई बंद पेन, इन सब के बीच मेरा सोचता अस्थिर चंचल मन, ये है मेरे साफ़ कमरे की कहानी, सिर्फ और सिर्फ मेरी जुबानी || आप बेचलर तो नहीं हैं ? ये हर उस युवा की कहानी है जो अभी बेचलर है या अकेला रहता है

    Bimal Raturi के द्वारा
    October 1, 2012

    bhagwaan ki dua se abhi akela hi hun……..

rekhafbd के द्वारा
September 30, 2012

बिमल जी दूसरे बिस्तर में पड़े मोबाईल चार्जरों का जाल, टेबल में पड़ी लैपटाप,पेन और कई डाईरियां, सामने दीवाल में रखी सरस्वती की मूर्ति, चौतरफा लटकते मकड़ी के आशियाने, ढूंढती हैं पवन कमरे में आने के बहाने,,शादी कर लीजिये कमरा और अधिक निखर जाएगा .

    Bimal Raturi के द्वारा
    September 30, 2012

    rekha ji…. me bhi mummy ko ye hi kah rha tha ki 22 ka ho gya hun….aap ne pahle hi 1 saal waste kar diya….jald se jald meri shadi krao…. par mummy manti hi nahi…..mummy ka number de deta hun aap unhe samjhaiye…. kya pta maan jaye…. thanks for your comment..

rekhafbd के द्वारा
September 30, 2012

बिमल जी दूसरे बिस्तर में पड़े मोबाईल चार्जरों का जाल, टेबल में पड़ी लैपटाप,पेन और कई डाईरियां, सामने दीवाल में रखी सरस्वती की मूर्ति, चौतरफा लटकते मकड़ी के आशियाने, ढूंढती हैं पवन कमरे में आने के बहाने,,शादी कर लीजिये कमरा और अधिक निखर जाएगा


topic of the week



latest from jagran